प्रो.संजय द्विवेदी मूल्यानुगत मीडिया अभिक्रम समिति के अध्यक्ष बने
December 8, 2019 • Media Vimarsh

इंदौर में हुई महापरिषद की बैठक में चुने गए पदाधिकारी

इंदौर, 8 दिसंबर, 2019। मूल्यानुगत मीडिया अभिक्रम समिति(Society of Media Initiative for Values) की महापरिषद का चुनाव कार्यक्रम इंदौर के ओम शांति भवन में संपन्न हुआ। चुनाव में समिति के संयोजक, संचालन परिषद एवं कोर कमेटी के सदस्य शामिल हुए। महापरिषद चुनाव में सर्वसम्मति से संचालन परिषद का अध्यक्ष वरिष्ठ पत्रकार एवं शिक्षाविद् प्रो. संजय द्विवेदी को चुना गया।

    इसके साथ ही रंजीता ठाकुर (भोपाल) को संचालन परिषद का सचिव, वरिष्ठ पत्रकार राजेश राजोरे(संपादकः देशोन्नति, मराठी दैनिक,बुलढाना) को उपाध्यक्ष एवं प्रभाकर कोहेकर (सामाजिक कार्यकर्ता, इंदौर) को कोषाध्यक्ष चुना गया। परिषद में सर्वश्री प्रो. संजीव भानावत( जयपुर), वैभव वर्धन (टीवी पत्रकार, दिल्ली), संदीप कुलश्रेष्ठ (उज्जैन) और सुशांत बेहरा सदस्य चुने गए। इसी प्रकार कोर कमेटी के अध्यक्ष सोमनाथ वडनेरे (जलगांव) होंगें तथा सदस्यों में वरिष्ठ पत्रकार एन.के. सिंह(दिल्ली),मधुकर द्विवेदी(रायपुर),बीके शांतनु(दिल्ली), नारायण जोशी (इंदौर),गौरव चतुर्वेदी(भोपाल), प्रियंका कौशल यादव (रायपुर), संतोष गुप्ता (इंदौर), सोमनाथ महस्के, दिलीप बोरसे(नासिक) के नाम शामिल हैं। रावेंद्र सिंह(भोपाल) को मध्यप्रदेश राज्य समन्वक की जिम्मेदारी दी गई है।

      उल्लेखनीय है कि मूल्यानुगत मीडिया अभिक्रम समिति की स्थापना 13 साल पहले वरिष्ठ पत्रकार प्रो. कमल दीक्षित ने इंदौर में की थी। समिति का उद्देश्य मूल्यनिष्ठ मीडिया का विकास तथा इसका नेटवर्क बनाना है। मानवीय मूल्यों पर आधारित समाज निर्माण में मीडिया की सक्रिय भागीदारी के लिए संस्था निरंतर कार्यक्रम, प्रशिक्षण, विमर्श तथा शोध के प्रकल्प चली है। संस्था 12 वर्षों से 'मूल्यानुगत मीडिया' नामक एक पत्रिका का प्रकाशन भी कर रही है।

   इस अवसर पर समिति के संस्थापक प्रो. कमल दीक्षित ने चुने गए पदाधिकारियों को बधाई दी। उन्होंने इस वर्ष उनके द्वारा आयोजित की गईं पचास मीडिया कार्यशालाओं के अनुभव साझा करते हुए कहा कि इन आयोजनों ने पत्रकारिता के नए सिद्धांतों को जन्म दिया है। इनसे आइकॉनिक जर्नलिज्म की समझ और भी अधिक विकसित हुई है। राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी हेमलता दीदी ने कहा कि किसी भी विचारधारा की शुरुआत एक छोटे से विचार से होती है। मूल्यानुगत मीडिया ने पत्रकारिता में सकारात्मकता की विचारधारा को जन्म दिया है। संचालन परिषद के पूर्व अध्यक्ष संदीप कुलश्रेष्ठ ने भी अपने अनुभव साझा किए और नए अध्यक्ष और पदाधिकारियों का स्वागत किया।

   नवनिर्वाचित अध्यक्ष प्रो. संजय द्विवेदी ने  कार्यभार ग्रहण करते हुए अपने संबोधन में कहा कि मीडिया के विमर्शकार,संचालक जब यह सोचने बैठेंगे कि मीडिया किसके लिए और क्यों? तब उन्हें इसी समाज के पास आना होगा। रूचि परिष्कार, मत निर्माण की अपनी भूमिका को पुनर्परिभाषित करना होगा। क्योंकि यही मीडिया की सार्थकता है। उन्होंने कहा कि 'विचारों के अनुकूलून' के समय में भी लोग सच को पकड़ लेते हैं।  प्रो. द्विवेदी ने कहा कि मीडिया को मूल्यों, सिद्धांतों और आदर्शों के साथ खड़ा होना होगा, यह शब्द आज की दुनिया में बोझ भले लगते हों पर किसी भी संवाद माध्यम को सार्थकता देने वाले शब्द यही हैं। सच की खोज कठिन है पर रुकी नहीं है। सच से साथ खड़े रहना कभी आसान नहीं था। हर समय अपने नायक खोज ही लेता है। इस कठिन समय में भी कुछ चमकते चेहरे हमें इसलिए दिखते हैं क्योंकि वे मूल्यों के साथ, आदर्शों की दिखाई राह पर अपने सिद्धांतों के साथ डटे हैं। समय ऐसे ही नायकों को इतिहास में दर्ज करता है और उन्हें ही मान देता है।

    कार्यक्रम में समिति के पूर्व अध्यक्ष श्री जयकृष्ण गौड़ और वरिष्ठ पत्रकार श्री शशीन्द्र जलधारी को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनके योगदान का स्मरण किया गया। इस अवसर डा. चंदर सोनाने, विश्वास शर्मा दाधीच, सोहन दीक्षित, क्रांति पटले भी उपस्थित रहे।

नवनिर्वाचित  अध्यक्ष का परिचयः

प्रो.संजय द्विवेदी, देश के प्रख्यात पत्रकार, संपादक, लेखक, संस्कृतिकर्मी और मीडिया प्राध्यापक हैं। दैनिक भास्कर, हरिभूमि, नवभारत, स्वदेश, इंफो इंडिया डाटकाम और छत्तीसगढ़ के पहले सेटलाइट चैनल जी 24 घंटे छत्तीसगढ़ जैसे मीडिया संगठनों में महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां संभाली। माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय, भोपाल में 10 वर्ष मास कम्युनिकेशन विभाग के अध्यक्ष और विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार रहे। संप्रति जनसंचार विभाग में प्रोफेसर और 'मीडिया विमर्श' पत्रिका के कार्यकारी संपादक हैं। राजनीतिक, सामाजिक और मीडिया के मुद्दों पर निरंतर लेखन। अब तक 26 पुस्तकों का लेखन और संपादन। अनेक संगठनों द्वारा मीडिया क्षेत्र में योगदान के लिए सम्मानित।